Friday , September 17 2021
Breaking News
Home / Lockdown / भारतीय जनता पार्टी जालंधर के पूर्व जिला अध्यक्ष रमेश शर्मा ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह जी से अस्पतालों में होने वाले इलाज के खर्चे को तय करने की मांग की

भारतीय जनता पार्टी जालंधर के पूर्व जिला अध्यक्ष रमेश शर्मा ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह जी से अस्पतालों में होने वाले इलाज के खर्चे को तय करने की मांग की

जालंधर (रमेश कुमार) भारतीय जनता पार्टी जालंधर के पूर्व जिला अध्यक्ष रमेश शर्मा ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह जी से कोरोना आपदा से निजी अस्पतालों में होने वाले इलाज के खर्चे को तय करने की मांग की है। पंजाब में कोरोना आपदा में कोरोना बीमारी से ग्रस्त लोगों के निजी अस्पतालों में इलाज के प्रतिदिन खर्चे एवं सरकार द्वारा निर्धारित दवाई पर होने वाले रेट के हिसाब से रोगी का बिल बनना चाहिए। बहुत से निजी हस्पताल कोरोना बीमारी से डरे हुए लोगों के डर का लाभ ले रहे हैं जब सरकार बार-बार कह रही है कि कोरोना पर इतना खर्चा इलाज पर नहीं आता फिर निजी अस्पतालों द्वारा मोटे बिल कैसे वसूले जा रहे हैं। रमेश शर्मा ने सरकार से जानकारी मांगी है कि जो दवाई पंजाब में मिलती ही नही डॉक्टर उन्हें रोगी के परिवार को परेशान करने के लिए क्यों लिख रहे हैं। एक टीका जिसका नाम ITOLIZUMAB है और लगभग 40,000 ₹ का है पंजाब में उपलब्ध ही नही है फिर डॉक्टरों द्वारा क्यों लिखा जा रहा है। सरकार से मांग करता हूं सरकार अस्पताल में प्रतिदिन निजी रूम का किराया व कोरोना इलाज में दी जाने वाली दवाइयों का खर्च तय करे जिससे लोग संकट की घड़ी में लूट से बच सकें। बहुत से अस्पताल एम्बुलेंस वालों से सेटिंग करके मरीजों को अपने जहां घेर कर ला रहे हैं। होशियारपुर जिले के लगभग सभी एम्बुलेंस वालों व गांव के डॉक्टरों से निजी कुछअस्पतालों की सेटिंग हो चुकी है, उस जिले के अधिकतर कोरोना रोगी उन्ही गिने चुने सेटिंग वालेअस्पतालों में घेर कर व डराकर दाखिल करवाये जा रहे हैं। जिलों के डिप्टी कमिश्नर जिले की एक साइट बना कर अपने जिले के सभी कोरोना अस्पतालों में उपलब्ध बिस्तरों की जानकारी रोजाना जनता को दें, ताकि कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन प्राप्त जानकारी के माध्यम से बिना समय गवाये अपने परिचित को इलाज के लिए दाखिल करवा सके। REMEDISIVIR जैसी महँगी दबाइयां जो प्रशासन की अनुमति से सीधा डीलर से मिल रही हैं उनकी कीमत निर्धारित की जाए क्योंकि दबाइयों की छपी कीमत में रिटेलर का लाभ भी मिला होता है और प्रशासन की अनुमति से मिलने बाली दवाई सीधे डीलर से मिलती है रिटेलर से नही और यह दवाई अस्पताल को मिलनी चाहिए ताकि पहले से परेशान परिवार जरुरत के समय प्रशासन से अनुमति लेने के लिये धक्के न खाता रहे।

रमेश शर्मा

पूर्व जिला अध्यक्षभाजपा जालंधर।94172 72710

About Front Page

Check Also

निहंग सिंहों के वेष में व्यक्ति के हाथ काटने की घटना दर्शाती है कि कानून व्यवस्था का बेड़ागर्क हुआ 

जालंधर : अमृतसर में निहंग सिंह के वेश में आए लुटेरों द्वारा एक व्यक्ति का हाथ काटना …