Friday , September 17 2021
Breaking News
Home / Lockdown / मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोकडाउन लगाने की संभावना के बारे में क्या कहा

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोकडाउन लगाने की संभावना के बारे में क्या कहा

फ्रंट पेज (रमेश कुमार) पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने फिलहाल पूर्ण लॉकडाउन की संभावना से इनकार किया है। मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को पंजाब के सबसे अधिक कोविड प्रभावित छह जिलों के डीसी को माइक्रो कंटेनमेंट रणनीति को पुख्ता करने और 100 प्रतिशत टेस्टिंग यकीनी बनाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री शुक्रवार को कोविड की स्थिति की समीक्षा के लिए एक वर्चुअल मीटिंग की अध्यक्षता कर रहे थे। इस दौरान कैप्टन ने कहा कि लॉकडाउन कोई हल नहीं है, क्योंकि इससे बड़े स्तर पर प्रवासी मजदूर अपने राज्यों की तरफ भीड़ बढ़ा देंगे, जहां मेडिकल सुविधाएं बहुत कम हैं। उन्होंने संबंधित जिला प्रशासनों को निर्देश दिए कि सभी पाबंदियां सख्ती से लागू की जाएं और ज्यादा पॉजिटिव मामलों वाले सभी क्षेत्रों के होटलों में बैठकर खाने पर रोक लगाई जाए। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को रेस्टोरेंटों के स्टाफ की कोविड जांच करने के आदेश भी दिए। उन्होंने उद्योग जगत को हल्के लक्षणों वाले कामगारों के इलाज के लिए अपने कोविड इलाज केंद्र स्थापित करने को कहा। साथ ही उन्होंने अस्थायी अस्पताल तैयार करने की अपील करते हुए कोविड के खिलाफ मिलजुल कर जंग लड़ने पर जोर दिया। मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को कोविड के खिलाफ जंग में सेवामुक्त डॉक्टरों/नर्सों और एमबीबीएस के आखिरी वर्ष के विद्यार्थियों को ड्यूटी के लिए प्रोत्साहन देने को कहा और सुझाव दिया कि जिम्नेजियम/हॉल में अस्थायी तौर पर स्वास्थ्य संभाल केंद्र स्थापित किए जाएं।

ये हैं छह सबसे प्रभावित जिले

मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य के छह सबसे अधिक प्रभावित जिले लुधियाना, एसएएस नगर (मोहाली), जालंधर, बठिंडा, पटियाला और अमृतसर हैं। मोहाली और दो अन्य जिलों में कंटेनमेंट जोनों की संख्या पर चिंता जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने कंटेनमेंट और टेस्टिंग प्रणाली को मजबूत करने के लिए तुरंत कदम उठाने के आदेश दिए। मुख्यमंत्री ने इस बात पर चिंता भी जाहिर की कि राज्य के 14 जिलों में संक्रमण दर 10 प्रतिशत से अधिक है, जबकि पांच जिलों में 60 प्रतिशत से अधिक बेड भरे हुए हैं। मोहाली में 100 बिस्तरों वाले अस्थायी अस्पताल का ढांचा स्थापित किया जा रहा है, जबकि बठिंडा रिफाइनरी के नजदीक 250 बिस्तरों वाला अस्थायी अस्पताल बनाया जा रहा है, जहां रिफाइनरी से ऑक्सीजन की सप्लाई होगी। सरकारी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल पटियाला और अमृतसर में 600 अतिरिक्त बिस्तरों के साथ पंजाब में और 2000 बिस्तरों का प्रबंध किया जा रहा है।

About Front Page

Check Also

ਡਾਕਟਰ ਲਖਵੀਰ ਸਿੰਘ ਨੂੰ ਫੇਰ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸਨਮਾਨਿਤ

। ਹੁਸ਼ਿਆਰਪੁਰ(ਸਰੋਆ)- ਕਰੋਨਾ ਦੀ ਇਸ ਮਹਾਂਮਾਰੀ ਚ ਬਹੁਤ ਹੀ ਘੱਟ ਲੋਕਾਂ ਨੇ ਆਪਣੀ ਜਾਨ ਦੀ …