Monday , June 1 2020
Breaking News
Home / जालंधर / दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान ने बस्ती नौ में गुरु रविदास प्रकाशोत्सव

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान ने बस्ती नौ में गुरु रविदास प्रकाशोत्सव

जालंधर ः दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान की ओर से बसती नौ के रविदास मंदिर में श्री रविदास जी महाराज जी का प्रकाशउत्सव मनाया गया जिसमें सर्व श्री आशुतोष जी महाराज क ी शिष्या साध्वी सौ6य भारती जी ने प्रोग्राम के दूसरे दिन कहा कि रविदास महाराज जी ने माटी का पुतला शरीर को कहा है और वह अपनी वाणी के माध्यम से समझा रहें है कि हे शरीर तू तो स्थूल है,निष्प्राण है, पाँच तत्वों से निर्मित है पर फिर भी तू कैसे जिंदगी की तान पर नाचता है। कोई तो जीवन ऊर्जा होगी जो तेरे इस शरीर रूपी यंत्र को चलायमान रखती है। समय-समय पर हमारे महापुरूषों ने समस्त मानव जाति को यही समझाया है कि हमारी भौतिक और नश्वर देह के अंदर एक अभौतिक और अविनाशी जीव सत्ता है जिसके कारण हम जीवित है, क्रियाशील है और इस सत्ता को आत्मा कहा गया है। इसलिए भारत के तत्वज्ञानियों ने हमें एक चार-स्तरीय आज्ञा दी-आत्मा वा अरे श्रोतव्यो- तुम आत्मा के विषय में अवश्य सुनो, उस पर वैज्ञानिक प्रयोगों द्वारा तथ्य खोजो। और फिर मन्तव्यों- इन आत्मा संबधी तथ्यों,तर्कों,जानकारियों पर मनन चिंतन करो। फिर द्रष्टवय-अपने भीतर आत्मा का दर्शन,उसके उज्जवल स्वरूप का साक्षात्कार करो। उसके उपरान्त निदिध्यासितव्यो- उस पर एकचित ध्यान अभयास करो। लेकिन प्रश्र यह है कि हम आत्मा का साक्षात्कार किस प्रकार करें। इस विषय में कठोपिनषद में कहा गया है-एष सर्वेषु भूतेषु गूढात्मा न प्रकाशते-सर्वभूत चेतन प्राणियों में एक गूढ़ आत्मा छिपी हुई है,प्रकट नहीं है। परन्तु उसे प्रकट किया जा सकता है। सूक्ष्मया सूक्ष्मदर्शिभि- दिव्य दृष्टि के द्वारा। पूर्ण गुरू ब्रहमज्ञान के माध्यम से मानव को दिव्य दृष्टि प्रदान करते है जिससे वह अपने भीतर परमात्मा का दर्शन कर सकता है। इस अवसर साध्वी जगदीशा भारती ,साण्वी शव्द प्रिया भारती ,साध्वी सदय़ा भारती ,स्वामी कुलवीरानंद जी ने अपने मधुर भजनों से उपस्थित जन समूह को भाव विभोर किया ।

About Front Page

Check Also

लॉकडॉउन 5.0 के तहत पंजाब सरकार ने जारी की नयी गाइडलाइन्स

फ्रंट पेज (ब्यूरो)31 मई तक 4.0 लाकडाउन खत्म होने के बाद 1 जून से लोकडाउन …