Tuesday , October 27 2020
Breaking News
Home / जालंधर / दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान व जन कल्याणसभा की ओर से ‘एक शाम प्रभु के नाम’ भजन संध्या का आयोजन

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान व जन कल्याणसभा की ओर से ‘एक शाम प्रभु के नाम’ भजन संध्या का आयोजन

जालंधर। दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान व जन कल्याणसभा की ओर से ‘एक शाम प्रभु के नाम ’भजन संध्या का आयोजन जैन भवन ,कपूरथला चैंक जालंधर में किया गया। जिसमें मुख्या वक्ता साध्वी भद्रा भारती जी मानव जीवन के उदेश्य के बारे में बताया कि सामाज में जितनी भी समस्या है ,वे इंसान के मन से शुरू होती है । और मन को नियंत्रण कर सब समस्याओं का हल भी हो जाता है ।मन के विकृत होने से आतंकवाद ,पर्यावरण दूषित ,कन्या भ्रूण हत्या जैसी कुरीतियाँ फैलती है ।भक्त हनुमान जी का जीवन हमें आगे बढऩे की प्रेरणा देता है। सांसारिक व्यकित हो सकता है परिस्थितियों से हताश हो जाए, परन्तु जिसके जीवन में प्रभु श्री रााम जैसे गुरू का पदार्पण हो जाता है वह इन बाधायों सें डरता नहीं अपितु आगे ही बढ़ता चला जाता है। साध्वी जी ने बताया कि आज भारत मे मंदी, बेरोजगारी, निरंतर तनाव व दबाव तथा पल-पल बढ़ती प्रतिस्पधा ने आज युवा पीढ़ी को नशे की भयावह साम्राज्य का पथिक बना दिया है। स्वतंत्रा देश का वासी होते हुए भी वह नशे की गिरफ्त में आकर पराधीनता का जीवन व्यतीत कर रहा है। जिस युवा के सहारे कोई देश स्वयं के लिए समुज्जवल भविष्य की किरणें देखता है आज वही युवा अपने देश के भविष्य पर प्रश्न चिन्ह बनकर खड़ा हो गया है। असमाजिक तत्व तो पहले ही देश पर घात लगाकर बैठे हैं क्योकि सारी दुनिया में से सबसे ज्यादा युवा भारत में ही हैं। नशीले पदार्थ घरों में सेंध लगाकर उनके हंसते-खेलते जीवन को लुट रहे हैं। जिसके परिणाम स्वरूप पारिवारिक और नैतिक मूल्य स्वार्थपरायण्ता की चिता पर जल कर खाक हो रहे है। नशों के व्यापार को संरक्षण देने वाले इस बात को समझ नहीं रहे है कि चंद पैसों की खातिर वह अपने देश को किस गर्त में धकेल रहे है। भारत के हर एक शहर में अफीम, स्मैक, चरस, गांजा, कोकीन इत्यादि बेचने वाले सौदागर सक्रिय है। बड़े शहरों की दवाईयों की मंडियों में करोड़ों रूपयों की नशीली दवाओं का कारोबार होता है। थोड़ी बहुत छापेमारी के बावजूद इस कारोबार पर रोक नहीं लगती और नशे का यह विकराल रूप धारण करता हुआ देश युवा वर्ग को खोखला करता जा रहा है। यह वह युवा शक्ति है जिसके आधार पर हम विश्व की महाशक्ति बनने का स्वपन देख रहे है, जो आज नशे की कटीली राहों पर भटक रही है। यौवन इस बात पर निर्भर करता है कि आप में प्रगति करने की कितनी योग्यता है। हारे थके मन से कोई युवा नहीं होता। यौवन तो वह है जो अपने महावेग से समस्याओं के गिरि शिखिरों को काट दे व विषमताओं के महा वट को उखाड़ दे। जब एक पूर्ण गुरू ब्रह्मज्ञान से दीक्षित करता है तो भीतर इ्रश्वर का साक्षात्कार होता है । इस भजन संध्या के दौरान साध्वी साध्वी मीनाक्षी भारती ,साध्वी पुन्या भारती जी ने आज की शाम तेरे नाम का गुणगान करें जैसे भजन गााकर संगत को निहाल किया इस अवसर पर शहर के सभी गणमान्य उपस्थित रहे । स्वामी सदानंद ,स्वामी सज्जनानंद जी ,रमन पब्ब्ी ,कृष्ण देव भंडारी ,किशन लाल शर्मा ,अजय जोशी ,रमेश शर्मा ,अशोक जैन जी विशेष थे ।

About Front Page

Check Also

भाजपा एस.सी.मोर्चा निकलेगा दलित इंसाफ यात्रा, अश्वनी शर्मा हरी झंडी देकर करेंगे रवाना ।

जालंधर: 21 अक्तूबर ( रमेश कुमार), पंजाब की कांग्रेस सरकार द्वारा दलितों पर किये जा …