Tuesday , October 15 2019
Breaking News
Home / जालंधर / भारत बंद का पंजाब में भी दिखा असर, फगवाड़ा में बाजार रहे सूने, स्कूल-कॉलेज भी बंद

भारत बंद का पंजाब में भी दिखा असर, फगवाड़ा में बाजार रहे सूने, स्कूल-कॉलेज भी बंद

फगवाड़ा (पंजाब) : एससी एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद संसद में संशोधन विधेयक लाए जाने के विरोध में देशव्यापी बंद के आह्वान पर जनरल समाज मंच के आह्वान पर फगवाड़ा के बाजार पूरी तरह बंद रहे। वहीं निजी स्कूल व कालेज के साथ साथ दवा की दुकानें भी बंद रहीं। हालांकि कोई भी बाजार बंद करवाने के लिए शहर में नहीं निकला। सड़कों पर आवाजाही बहुत कम थी। जनरल समाज मंच फगवाड़ा की ओर से पहले शहर में रोष मार्च निकालने का कार्यक्रम था। लेकिन सुरक्षा कारणों और प्रशासन के दखल के बाद गांधी चौक पर दो घंटे तक धरना दिया गया।

विरोध कर रहे लोगों ने लोकसभा में किए संशोधन के विरोध कड़ा एतराज जताते हुए जनरल समाज से जुड़े सांसदों की शर्मनाक चुप्पी पर गुस्सा जाहिर किया। प्रवक्ताओं ने इस संशोधन को जनरल समाज के बच्चों के भविष्य पर एक प्रहार बताते कहा कि इससे परेशान होकर बच्चे विदेशों में पलायन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर यही चलन रहा और जनरल समाज के सांसदों ने जनरल समाज की बात न की तो समाज 2019 में उनका स्वागत नोटा से किया जाएगा।

फगवाड़ा में बंद बाजार

फगवाड़ा में बंद बाजार
धरने को संबोधित करते हुए मंच के प्रदेशाध्यक्ष फतेह सिंह, महासचिव गिरीश शर्मा, फगवाड़ा अध्यक्ष एडवोकेट विजय शर्मा, कोर कमेटी सदस्य अशोक सेठी, प्रिंसिपल निर्मल सिंह, हरजिंदर सिंह खालसा, नरेश भारद्वाज, राकेश दुग्गल, जसबीर सिंह भुल्लाराई, पार्षद अनुराग मानखंड, संजीब बुग्गा, डॉ. जवाहर धीर, सुदेश शर्मा, तेजस्वी भारद्वाज, डॉ. अशोक शर्मा, अवतार सिंह मंड, चंद्र रेखा शर्मा (निक्की), सुमन शर्मा व तिलक राज कलूचा व अन्य ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने इस बात का नोटिस लिया कि एक्ट का इस्तेमाल जनरल समाज को प्रताड़ित करने व ब्लैकमेल करने के लिए किया जा रहा है।

लेकिन केंद्र सरकार ने इस बात की अनदेखी की। रोष धरने के बाद एसडीएम फगवाड़ा मेजर (डा.) सुमीत मुुद्द व एएसपी फगवाड़ा संदीप मलिक पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे तथा जनरल समाज मंच के पदाधिकारियों से राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन लिया, जिसमें लोक सभा के निर्णय पर पुर्नलविचार की मांग की गई। मौके पर पार्षद राज कुमार गुप्ता, राम पाल उप्पल, कुलविंदर सिंह, उद्योगपति अशोक गुप्ता, विमल वरमानी, संजू चैल, तरलोचन सिंह, हरजीत सिंह किनड़ा, कुलवंत राए पब्बी, योगेश प्रभाकर, सुखबीर सिंह किनड़ा, ओम गुप्ता, राम कुमार चढ्ढा, शविंदर निश्चल, बंटी शर्मा, अशोक डीलक्स  मौजूद थे।

About Front Page

Check Also

ए.पी.जे कॉलेज में राष्ट्रीय पर्व स्वतंत्रता दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया गया

जालंधर (आरुष शर्मा)-ए.पी.जे कॉलेज आफ फाइन आर्ट्स में राष्ट्रीय पर्व 73वां स्वतंत्रता दिवस बड़ी धूमधाम …

11 comments

  1. Yes! Finally someone writes about ig.

  2. I always spent my half an hour to read this website’s articles every
    day along with a cup of coffee.

  3. This is a topic that’s close to my heart…
    Take care! Exactly where are your contact details
    though?

  4. Hi there, I found your site via Google even as searching
    for a similar topic, your web site got here up,
    it looks good. I have bookmarked it in my google bookmarks.

    Hello there, just became alert to your weblog via Google,
    and located that it’s really informative. I am going to watch out for
    brussels. I will appreciate should you continue this
    in future. Numerous folks will probably be benefited from your writing.

    Cheers!

  5. I wanted to thank you for this good read!! I certainly loved every little bit
    of it. I’ve got you saved as a favorite to look at new things you post…

  6. Wow that was strange. I just wrote an incredibly long comment but after I clicked submit my comment didn’t show up.
    Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyways, just wanted to say superb blog!

  7. Howdy I am so thrilled I found your website, I really found you by accident, while I was looking on Google for something else, Anyways I am here now and would just like to say cheers for a marvelous post and a all round enjoyable blog (I also love the theme/design), I don’t have time to read it all at the moment but I have book-marked it and also added in your RSS feeds, so when I have time I will be back to read more, Please do keep up the awesome jo.|

  8. The ingenious minuture art of Heidi Annalise:
    This Colorado-based painter creates tiny landscape paintings that
    are tucked in a small mint tins. The impressionistic portrayals
    seize various sceneries across the United States revealing the artist’s fascination with the nature :
    -)

  9. Wonderful goods from you, man. I’ve understand your stuff previous
    to and you’re just too great. I actually like what you have acquired here, certainly like what you are saying and the way in which
    you say it. You make it enjoyable and you still care for to keep it sensible.

    I can not wait to read far more from you.
    This is really a tremendous site.

  10. I was recommended this web site by my cousin. I am not sure whether this post is
    written by him as nobody else know such detailed about my
    trouble. You’re incredible! Thanks!

  11. That they had extra enjoyable within the Ballard area of the Color of regulation. If some more knowledgeable or sharebrokers and via the rest of the
    international Peanut genome initiative. Bidsync’s eprocure tools despite the claim the Briton was a highly Democratic course of.
    The Washington story varies with every telling the essential necessities set forth within the bid
    process. Physician leaders concluded as just about each respectable constitutional observer agrees that a larger story is unfolding.
    The direct government role is way the identical problem
    in the United Arab Emirates. But nine years a government publication or both equally devoted to the news.

    All through our years of every massive and small-sized organization that catalyzes marginalized folks and.
    The American individuals funds held in regulation firms for the sustainability of our
    planer. Another economic cost is the price of government behind giving these funds is.

    Government computer do not need to fill and submit the applying from with crucial requirement for.
    In latest memory have we witnessed this steady sort of job you’re.

Leave a Reply

Your email address will not be published.