Monday , September 28 2020
Breaking News
Home / जालंधर / इंगलैंड, रोमानिया व अन्य राष्ट्रों के कंप्यूटिंग दिगगजों ने एलपीयू के विद्यार्थियों से वार्तालाप किया

इंगलैंड, रोमानिया व अन्य राष्ट्रों के कंप्यूटिंग दिगगजों ने एलपीयू के विद्यार्थियों से वार्तालाप किया

जालंधर – नोबेल पुरस्कार विजेता अमेरिकी फिजिकस साईंटिस्ट रिचर्ड फिलिप्स फेनमैन को उनकी जन्म शताबदी वर्ष पर विशेष सममान देने के लिए लवली प्रोफैशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) के कंप्यूटर साईंसिका, इंजीनियरिंग तथा एप्लीकेशंस विभागों ने कैंपस में चतुर्थ इंटरनैशनल कांफ्रैस ऑन कंप्यूटिंग साईंसिका फेनमैन-१०० का आयोजन किया। कांफ्रैंस के दौरान महत्वपूर्ण संबोधन और बातचीत करने वालों में इंगलैंड की हडर्सफील्ड यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर विभाग के प्रमुख प्रो रिचर्ड हिल; रोमानिया की यूनिवर्सिटी ऑफ अराड के फैकल्टी ऑफ इंजीनियरिंग की प्रो वैलेनतीना ई बालास; रोमानिया यूनिवर्सिटी के ही सीनियर सदस्य मारियस बालास; तथा हयूगीका सिस्टिक कार्पोरेशन के एसोसिएट वाईस प्रैकाीडैंट दीपक दहूजा आदि शामिल थे।
इस अवसर पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग के दिगगजों ने यह निष्कर्ष निकाला कि ‘हम मशीनों और मनुष्यों के एक ऐसे युग की ओर बढ़ रहे हैं जो पहले से कहीं अधिक निकटता से कार्य कर रहे हैं’। कांफ्रैंस के मुखय अतिथि के रूप में एलपीयू के चांसलर श्री अशोक मित्तल ने सभी को सतर्क करते कहा-‘हर पल बदलती टैकनोलॉजिका का सामना करने के लिए तैयार रहें’। पंजाबी संस्कृति व आतिथ्य सत्कार की प्रशंसा करते हुए प्रो वैलेनतीना ने सुझाव दिया-‘एक इस प्रकार के कंप्यूटर की रचना करें जो डाटा से अन्जान समस्याओं के प्रति हल सुझाने के लिए सामथ्र्य रखता हो, और इसका संचालन मानवीय मस्तिष्क की क्षमताओं से हो।’ उन्होंने ‘एडवांसड रिसर्च डायरैकशंस इन बॉयो इन्सपॉयरड आर्किटैकचर फॉर नैनो टैकनोलॉजी’ विषय पर बातचीत करते हुए यह सांझा किया। इंगलैंड के प्रो रिचर्ड हिल ने ‘मेकिंग सैंस ऑफ डाटा: विकाुएलाईजिंग द इंडस्ट्रीयल इंटरनैट ऑफ थिंगस (आईआईओटी)’ विषय पर विद्यार्थियों से इंट्रैकशन की। उन्होंने ‘स्किलका डिमांड अब और निकट भविष्य में’ टॉपिक पर भी विस्तार से बातचीत की। भविष्य के प्रोफैशनलस को प्रेरित करते हुए उन्होंने कहा-‘ऐतिहासिक डाटा को सीखो, उसे वर्तमान संदर्भ में समझो और फिर निष्कर्ष निकालो। इससे भी अधिक, यदि हम डाटा सांझा करते हैं तो हम एक दूसरे से अधिक सीख सकते हैं। मैं समझता हूं कि अधिकतर समस्याओं का एक ही हल होता है।’
श्री दहूजा ने सभी को विभिन्न क्षेत्रों में ग्राहकों की संतुष्टि के संदर्भ में ज्यादा से ज्यादा रिसर्च व डिवैल्पमैंट पर ध्यान केंद्रित करने के बारे में बताया। उन्होंने प्रभावशाली सहयोग, सटीकता, बहुत से आईओटी डिवाईसिका तथा एप्स जैसी चुनौतियों के बारे में भी बताया। इससे पहले कांफ्रैंस में सबका स्वागत करते हुए एलपीयू के एगजीकयुटिव डीन डॉ लवी राज गुप्ता ने कांफ्रैंस के उद्देश्य के बारे में बताया तथा विद्यार्थियों को सलाह दी कि विश्व में प्रभावशाली लोगों द्वारा किए जा रहे कार्यों को देखें और समझें। उन्होंने सभी को चौकस किया कि हमें मशीनों का गुलाम नहीं बनना चाहिए और टैकनोलॉजी के बहुत अधिक अभयस्त नहीं होना चाहिए। कंप्यूटर विभागों के हैड प्रो डॉ राजीव सोबती ने कांफ्रैंस में भाग लेने वाले सभी अंर्तराष्ट्रीय, राष्ट्रीय दिगगजों तथा विद्यार्थियों के प्रति धन्यवाद व्यकत किया। इस अवसर पर १०० से अधिक रिसर्च पेपर प्रकाशन के लिए चयन किए गए और ८ पेपर बैस्ट पेपर अवार्ड के लिए घोषित किए गए।

About Front Page

Check Also

भाजपा महिला मोर्चा की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर किया पौधारोपण

फ्रंट पेज (रमेश कुमार) भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्षा श्रीमती मोना जैसवाल जी के …