Saturday , January 18 2020
Breaking News
Home / देश / सुप्रीम कोर्ट ने ठुकराई कांग्रेस की मांग, बोपैया बने रहेंगे प्रोटेम स्पीकर

सुप्रीम कोर्ट ने ठुकराई कांग्रेस की मांग, बोपैया बने रहेंगे प्रोटेम स्पीकर

नयी दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने कांग्रेस-जनता दल (एस) गठबंधन को आज करारा झटका देते हुए के जी बोपैया को कर्नाटक विधानसभा का अस्थायी अध्यक्ष नियुक्त किये जाने के खिलाफ उसकी याचिका आज ठुकरा दी। न्यायमूर्ति अर्जन कुमार सिकरी, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ ने अस्थायी अध्यक्ष की नियुक्ति के खिलाफ कांग्रेस-जद (एस) की याचिका को आगे की सुनवाई के लिए स्वीकार करने से इन्कार कर दिया।

याचिकाकर्ताओं की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने बोपैया के पुराने इतिहास का हवाला देते हुए उनकी नियुक्ति पर सवाल खड़े किये। राज्यपाल वजूभाई वाला की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने दलील दी कि शक्ति परीक्षण की पूरी प्रक्रिया की सीधे प्रसारण की व्यवस्था की गयी है इसलिए किसी प्रकार की गड़बड़ी की कोई आशंका नहीं है। इस पर न्यायालय ने यह कहते हुए याचिका खारिज कर दी कि मेहता ने उनकी समस्या हल कर दी है। सभी क्षेत्रीय समाचार चैनलों से इसका सीधा प्रसारण किया जायेगा और न्यायालय का एक मात्र उद्देश्य निष्पक्ष शक्ति परीक्षण कराना है। सुनवाई के दौरान जस्टिस सीकरी ने कहा कि हम स्पीकर की नियुक्ति नहीं कर सकते। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम राज्यपाल को इसके लिए निर्देश नहीं दे सकते। जबतक परंपरा कानून नहीं बन जाती तबतक कोर्ट दबाव नहीं डाल सकता। भाजपा दावा कर रही है कि वो सदन में होने वाले फ्लोर टेस्ट में पास होकर दिखाएगी, वहीं कांग्रेस का कहना है कि सीएम की कुर्सी पर येदुरप्पा चंद घंटों के मेहमान हैं।

बता दें कि सुनवाई के दौरान अभिषेक मनु सिंघवी और कपिल सिब्बल कांग्रेस और जेडीएस का पक्ष सामने रख रहे थे। वरिष्ठ वकील रामजेठमलानी भी सुप्रीम कोर्ट में मौजूद रहे। कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट में दलील दी थी कि प्रोटेम स्पीकर सबसे वरिष्ठ सदस्य को होना चाहिए। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऐसा कई बार हुआ है कि प्रोटेम स्पीकर सबसे वरिष्ठ सदस्य नहीं बने। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस-जद (एस) ने केजी बोपैया को कर्नाटक विधानसभा का प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। बता दें कि याचिका में प्रोटेम स्पीकर के अधिकार सीमित करने की मांग भी की गई थी।

याचिका में आरोप लगाया था कि येदियुरप्पा केंद्र के साथ मिलकर राज्यपाल के जरिये फ्लोर टेस्ट को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे है। इस बार भी 2008 की ही तरह फ्लोर टेस्ट की तैयारी की जा रही है, जिसे ऑपरेशन लोटस कहते हैं। याचिका में कहा गया था कि अगर पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी नहीं हुई तो कुछ भी गलत होने पर कोर्ट में कुछ साबित नहीं हो पाएगा। समर्थन और विरोध करने वाले विधायकों को अलग-अलग बैठाया जाए।

About Front Page

Check Also

प्रियंका गांधी का पीएम मोदी पर वार, कहा- उन्हें मेरे परिवार के बारे में ही बात करने की सनक

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को फतेहपुर की एक जनसभा को सम्बोधित …

12 comments

  1. You have made some really good points there. I looked on the web to find out
    more about the issue and found most people will go
    along with your views on this web site.

  2. It is not my first time to pay a visit this website, i am visiting this site dailly and
    obtain good data from here daily.

  3. tismzblzt,This website truly has alll of the information and facts I wanted about this subject and didn’t know who to ask.

  4. mntvzahlf,I can now make this dish easily.Thanks to your help here.

  5. aoamhznvfuv,Some really nice stuff on this website, I enjoy it. I LOve your Blog!

  6. ugppkb,Some really nice stuff on this website, I enjoy it. I LOve your Blog!

  7. jumrpmkvgwk,Thanks for this useful information, Really amazing. Thanks again. I LOve your BloG

  8. A tree care service might help to get this handled.

  9. It is the best time to make some plans for the future and it’s time to be happy. I have read this post and if I could I desire to suggest you some interesting things or tips. Perhaps you can write next articles referring to this article. I desire to read more things about it!|

  10. taxgrxlrmnd,If you are going for best contents like I do, just go to see this web page daily because it offers quality contents, thanks! I LOve your Blog!

Leave a Reply

Your email address will not be published.