Tuesday , January 22 2019
Breaking News
Home / जालंधर / भारत जैसे शीर्ष देश को सभी नवीनताओं का उत्पादक होना चाहिए : प्रकाश जावड़ेकर 

भारत जैसे शीर्ष देश को सभी नवीनताओं का उत्पादक होना चाहिए : प्रकाश जावड़ेकर 

जालन्धर – भारत सरकार के केंद्रीय मानव संसाधन व विकास मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर आज लवली प्रोफैशनल यूनिवर्सिटी में चल रही पांच दिवसीय 106वीं इंडियन साईंस कांग्रेस के दौरान आयोजित दो दिवसीय वूमैन साईंस कांग्रेस के समापन समारोह में मुख्यातिथि के रूप में पहुंचे। मंत्री महोदय ने आईएससी की 8वीं वूमैन साईंस कांग्रेस में भाग लेने वाली सभी महिला प्रतिनिधियों, भागीदारों व स्टूडैंटस को प्रेरित करते हुए सभी को अगली आईएससी मीट में अधिक से अधिक साकारात्मक तथा उल्लेखनीय उपलब्धियों के साथ एकत्रित होने के लिए कहा। महिलाओं को स्थिरता, करुणा, साहस और दृढ़ विश्वास का प्रतीक बताते मंत्री महोदय ने उन्हें साईंस और टैकनोलॉजी के क्षेत्रों में सदैव आगे रहने के लिए प्रोत्साहित किया। दो बार की नोबेल पुरस्कार विजेता मैरी क्यूरी का उदाहरण लेते हुए जिन्होंने फिजिक्स और कैमिस्ट्री जैसे दो अलग क्षेत्रों में रेडियम और पोलोनियम की खोज के लिए पुरस्कार प्राप्त किया था, मंत्री जी ने सभी महिला वैज्ञानिकों को प्रेरित किया कि वे किसी भी संख्या में कम नहीं हैं।
कोरिया, ताईवान, सिंगापुर और चीन का उदाहरण लेते हुए, जो कुछ दशक पहले रिसर्च के क्षेत्र में अनजान थे, मंत्री जावड़ेकर ने जोर देकर कहा कि जो कोई भी देश साईंस और टैकनोलॉजी में प्रगति करता है वही अन्य देशों से उत्कृष्ट होता है। यहां उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिए गए नारे ‘जय अनुसंधान’ को दोहराते हुए कहा कि रिसर्च कार्यो के बिना किसी भी राष्ट्र की प्रगति अधूरी ही रहती है। समुद्र मंथन की तरह लगातार रिसर्च वर्कस में बेशक समय और कठिन प्रयास लगते हैं लेकिन इनके फल सदैव मीठे होते हैं। यहां उन्होंने भारत सरकार की फंडिंग के प्रति विभिन्न उदार योजनाओं के बारे में भी बात की जो देश में रिसर्च उन्मुख बैस्ट माईंडस को आकर्षित करने के लिए बनाई गईं हैं। उन्होंने भारत की समृद्ध प्रगति के लिए अकादमिक, उद्योग और अनुसंधान क्षेत्रों के एकीकृत कार्य पर भी महत्व दिया। उन्होंने दुनिया भर की शीर्ष यूनिवर्सिटियों के बीच ज्वाईंट रिसर्च प्रोग्रामस और साईंटिफिक सहयोग के बारे में भी बात की जहां भारतीय यूनिवर्सिटियों को भी इन प्रयासों का महान हिस्सा होना चाहिए।


मिनिस्टर जावड़ेकर ने सरकार की हायर एजुकेशन फाईनैंसिंग एजेंसी (एचईएफए) प्रोग्राम के बारे में भी बात की जो देश के प्रमुख शैक्षिक संस्थानों में शैक्षिक इन्फ्रॉस्ट्रक्चर और रिसर्च व डिवैल्पमैंट के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करता है। उन्होंने सभी को सूचित किया कि भारत सरकार सकारात्मक योजनाओं के माध्यम से ‘ब्रेन-ड्रेन) से हारने के स्थान पर अब नियमित रूप से ‘ब्रेन-गेन’ प्राप्त कर रहा है। नवीनताओं और स्मार्ट इंडिया के बारे में बात करते हुए उन्होंने सभी संस्थानों से कहा कि वे अपने-अपने कैंपस में इनोवेशन कौंसिल और क्लब खोलें जहां विद्यार्थी सीखें, रिसर्च करें और विकसित होकर अग्रणी बनें। अपने संबोधन का समापन करते हुए उन्होंने कहा कि विश्व में साईंस, टैकनोलॉजी व कम्युनिकेशन आधारित सभी नवीन उत्पादों के रचयिता भारतीय वैज्ञानिक व इंजीनियर हैं परंतु मालिक नहीं हैं। उन्होंने सभी का आह्वान किया कि केवल रचयिता बनने की बजाए सभी भारतीयों को नवीनताओं का उत्पादक व मालिक बनना चाहिए, तभी भारत देश उल्लेखनीय प्रगति कर सकता है।
इस अवसर पर मंत्री महोदय ने एलपीयू के इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों द्वारा बनाई गई ड्राईवर लैस मल्टीसीटर सोलर बस को लांच किया और इसकी सवारी भी की। इस रचना के बारे मंत्री महोदय ने एलपीयू के विद्यार्थियों तथा यूनिवर्सिटी की प्रशंसा भी की और यूनिवर्सिटी को स्टडी के प्रति बेहतरीन वातावरण के लिए लवली प्रोफैशनल यूनिवर्सिटी को वास्तविक रूप से ‘लवली’ कह कर सम्बोधित भी किया। सूचना करने योगय है कि कल अर्थात् 7 जनवरी 2019 को इस भव्य इंडियन साईंस कांग्रेस 2019 का समापन दिवस है।
इस अवसर पर मुख्य मंच पर आईएससी के जनरल प्रैज़ीडैंट डॉ मनोज कुमार चक्रबरती, जनरल सैक्रेटरी (साईंटिफिक एकटीविटीज़) प्रो पी पी माथुर, एलपीयू के चांसलर श्री अशोक मित्तल, जनरल सैक्रेटरी (मैंबरशिप अफेयर्ज़) प्रो गंगाधर तथा डिपार्टमैंट ऑफ साईंस एंड टैकनोलॉजी के किरण डिवीज़न की डॉ नमिता गुप्ता भी मौजूद थीं। चांसलर श्री मित्तल ने एचआरडी मिनिस्टर का स्वागत करते हुए प्रसन्नता व्यक्त की कि मंत्री महोदय अपने कार्यकाल में दूसरी बार एलपीयू कैंपस में पधारे हैं। श्री मित्तल ने मंत्री जावड़ेकर की उनके अनूठे, कर्मठ और वचनबद्ध कार्यशैली की प्रशंसा की।
इस कार्यक्रम के साथ-साथ विभिन्न पलैनरी सैशन भी आयोजित किए गए थे जहां रिसर्च उन्मुख ब्रैस्ट कैंसर, कीमो थैरेपी, इकोलॉजिकल साईंसिज़ जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर विषय माहिरों द्वारा गहन विचार-विमर्श हुआ।

About Front Page

Check Also

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान और युवा परिवार सेवा समिति की ओर से स्वामी विवेकानंद जयंती पर “Youth Awekeing Workshop”

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान और युवा परिवार सेवा समिति की और से स्वामी विवेकानंद जयंती …

One comment

  1. I love your blog.. very nice colors & theme. Did you design this website yourself or did you hire someone to do it for you? Plz answer back as I’m looking to construct my own blog and would like to know where u got this from. many thanks|

Leave a Reply

Your email address will not be published.